उसकी खामोशी: Uski Khaamoshi

वो जब उदास होती है
खामोश हो जाती है

जैसे एक तालाब के पानी में
महीनो से किसी ने पत्थर नही मारा
ना कभी हवा चली हो
और ना ही उस तालाब में कोइ मछली हो
ऐसा मरघट जिसमें न किसी कि आहट आयी हो
न किसी की आवाज़

ऐसी खामोशी
दो पल तो खूबसूरत लगती है
फिर चार पल को डरावनी..

मगर फिर मेरी आहट से
जो हलचल होती है
पानी के गोल घेरे पडते हैं
एक छन से टूटे गिलास के टुकडे की आवाज़ की मानिन्द
खामोशी को और भी खूबसूरत कर देती है

और ये लुक छिपी का खेल
सूरज और चांद की तरह
आगे पीछे चलता रहता है
क्योंकि जिस वक्त ये दोनो मिलते हैं
चाहे वो शाम हो या सुबह कि लाली
वो वक्त
बहोत खूबसूरत होता है

wo jab udaas hoti hai
khamosh ho jaati hai

jaise ek taalab ke paani mein
mahino se kisi ne pathar nahi maara
na kabhi hawa chali ho
aur naa hi us talaab mein koi machli ho
aisa marghat jisme na kisi ki aahat aayee ho
na kisi ki awaaz

aisi khamoshi
do pal to khoobsurat lagti hai
phir chaar pal ko daraavani..

magar phir meri aahat se
jo hulchul hoti hai
paani ke gol ghere padte hain
ek chan se toote glass ke tukde ki awaaz ki maanind
khaomoshi ko aur bhi khoobsurat kar deti hai

aur ye luka chipi ka khel
suraj aur chaand ki tarah
aage peeche chalta rehta hai
kyonki jis waqt ye dono milte hain
chahe wo shaam ho ya subah ki laali
wo waqt
bahut khoobsurat hota hai

Advertisements
%d bloggers like this: