Tanhai

ईतना थक जाउंगा आइने से बातें कर के
क्या खबर थी की तन्हाई यूं खाली होगी

केहते हैं वो िक तन्हाई नहीं होती खला
िफर मेरा ईश्क, तेरी सोच ही ज़ाली होगी

चंद अफसाने, कई चेह्रॆ, और दो नम आंखें
गमज़दा दौर की कुछ और सच्चाई होगी

Inta thak jaoonga aaine se baatein kar ke
Kya khabar thee ki tanhai yun khali hogi

Kehte hain wo ki tanhai nahi hoti khala
Phir mera ishq, teri soch hi jali hogi

Chand afsaane, kai chehre, aur do nam aankhein
Gamzada daur ki kuch aur sachai hogi..

Advertisements
%d bloggers like this: